become an author

अवध विश्वविद्यालय के विद्यार्थी मशरूम की खेती से प्रशिक्षित होंगे।

विद्यार्थियों में कौशल उद्यमिता के लिए वैल्यू एडेड कोर्स शुरू होगाः कुलपति।

अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो0 प्रतिभा गोयल ने गुरूवार को अपराह्न तीन बजे परिसर स्थित मशरूम यूनिट का अवलोकन किया। परिसर के माइक्रोबायोलाॅजी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डाॅ0 रंजन सिंह द्वारा तैयार किए गए यूनिट में करीब 50 कटीवेशन बैग में बटन मशरूम को उगाया गया। कुलपति द्वारा मशरूम यूनिट का जायजा लेते हुए इसके उत्पादन की जानकारी प्राप्त की।

विश्वविद्यालय की कुलपति ने बताया कि भारत में मशरूम की खेती की ओर लोगों का रूझान तेजी से बढ़ा है। यह आकर्षक व्यवसाय है। विद्यार्थियों में कौशल उद्यमिता विकसित करने के लिए विश्वविद्यालय में मशरूम यूनिट की शुरूआत की गई है। कुलपति प्रो0 गोयल ने बताया कि विद्यार्थियों को मशरूम की खेती के लिए प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसके लिए शीघ्र ही मूल्य वर्धित पाठ्यक्रम (वैल्यू एडेड कोर्स) शुरू करने की योजना है। इसका लाभ उठाकर विद्यार्थी व्यवसाय शुरू कर सकते है और रोजगार प्राप्त कर सकते है। इसमें प्रशिक्षित होने पर विद्यार्थियों को कोर्स प्रमाण-पत्र दिया जायेगा।

माइक्रोबायोलाॅजी विभाग के डाॅ0 रंजन सिंह ने बताया कि मशरूम यूनिट तैयार करने में वर्मी कम्पोस्ट खाद व भूसा का प्रयोग किया गया है। करीब 50 बैग में बीज को रोपित किया गया। मशरूम को उगने में 21 से 27 दिन लगता है। इस व्यवसाय में छात्रों को को प्रशिक्षित कर आत्मनिर्भर बनाया जायेगा। इस अवसर पर डाॅ0 सुरेन्द्र मिश्र, डाॅ0 विजयेन्दु चतुर्वेदी, डाॅ0 अनिल कुमार विश्वा, शोधार्थी आजाद पटेल सहित अन्य मौजूद रहे।

Leave a Comment

× How can I help you?