become an author

जानिए क्या है अक्षय तृतीया की पूजन विधि, जिससे मां लक्ष्मी कभी नहीं होने देंगी तिजोरी खाली, जानें शुभ मुहूर्त और मंत्र।

10 मई को अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। इस दिन मां लक्ष्मी और विष्णु जी की पूजा करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। तो यहां जानिए अक्षय तृतीया की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त के बारे में।

अक्षय तृतीय 2024 :– इस साल 10 मई 2024 को अक्षय तृतीया का पर्व मनाया जाएगा। हर साल वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया मनाया जाता है। इस दिन को आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है। अक्षय तृतीया का दिन सालभर की शुभ तिथियों की श्रेणी में आता है। कहते हैं यह दिन किसी भी शुभ और मांगलिक कार्य को करने के लिए अति उत्तम होता है। अक्षय तृतीया के दिन विशेष रूप से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा का विधान है। इस दिन ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन में खुशहाली आती है और परिवार में सबके बीच आपसी सामंजस्य बना रहता है। अतः अगर आप भी अपने जीवन में खुशहाली और परिवार में सबके बीच आपसी सामंजस्य बनाए रखना चाहते हैं तो अक्षय तृतीया के दिन आपको भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी विधिपूर्वक पूजा जरूर करें। तो आइए जानते हैं कि अक्षय तृतीया की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त और सही विधि क्या रहेगा।

अक्षय तृतीया के दिन इस विधि के साथ करें मां लक्ष्मी और विष्णु जी की पूजा

अक्षय तृतीया के दिन प्रात:काल उठकर स्नान आदि के बाद साफ-सुथरे कपड़े पहन लें

इसके बाद पूजा घर या मंदिर की सफाई कर लें और गंगाजल छिड़क दें।

अब एक चौकी पर लाल या पीले रंग का कपड़ा बिछाएं।

चौकी पर मां लक्ष्मी और विष्णु की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें।

देवी लक्ष्मी और विष्णु नारायण की मूर्ति पर कुमकुम, चंदन लगाएं और फिर धूप-दीपक जलाएं।

मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु को फल, फूल, पान-सुपारी, तुलसी और मिठाई-भोग अर्पित करें।

आखिर में लक्ष्मी माता और विष्णु की आरती करें। फिर मंत्रों का जाप करें।

अक्षय तृतीया के दिन इन मंत्रों का करें जाप

पद्मानने पद्म पद्माक्ष्मी पद्म संभवे तन्मे भजसि पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्

ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:

श्रीं महालक्ष्म्यै नमः

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ऊँ महालक्ष्मी नमः

ॐ क्रीं क्लीं श्रीं लक्ष्मी मम गृहे धनं पूरये, धनं पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:

ॐ श्रीं श्रीं श्रीं लक्ष्मी वासुदेव नमः

ॐ नमो नारायणाय

ॐ विष्णु विष्णु भगवान विष्णु:

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः:

अक्षय तृतीया 2024 शुभ मुहूर्त 

वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि प्रारंभ- 10 मई 2024 को सुबह 4 बजकर 17 मिनट से

वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि समापन- 11 मई 2024 को सुबह 2 बजकर 50 मिनट तक

अक्षय तृतीया तिथि- 10 मई 2024

अक्षय तृतीया की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त- 10 मई को सुबह 5 बजकर 33 मिनट से दोपहर 12 बजकर 18 मिनट तक

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। भारत समाचार 24X7 एक भी बात की सत्यता का प्रमाण नहीं देता है।)

Leave a Comment

× How can I help you?