become an author

कृषि उत्पाद निर्यात में उत्तर प्रदेश का देशभर में तीसरा स्थान- शाही।

मंडलीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी का आयोजन, गोष्ठी में किसानों ने स्टाल से भी की खरीदारी।

दलहन खेती करने पर किसानों को एमएसपी के उपर सरकार 3500 रुपये देगी। प्राकृतिक, गो आधारित एवं आर्गेनिक की मार्केटिंग के लिए सरकार तेजी के साथ कार्य कर रही है। सभी कृषि विश्वविद्यालयों में आर्गेनिक टेस्टिंग लैब बनाया जाएगा।

किसानों के उत्पादों को निर्यात करने में उत्तर प्रदेश देशभर में तीसरे नंबर पर आ गया है। ऐसा पहली बार हुआ है कि उत्तर प्रदेश से 40 कुंटल आम पहली बार अमेरिका में और गोरखपुर से चने का बेसन सिंगापुर में निर्यात किया गया है। यह बातें कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बतौर मुख्यअतिथि कही।

वे आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय में अयोध्या एवं देवीपाटन मंडल के तत्वाधान में आयोजित मंडलीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। मंत्री शाही ने कहा कि हाल में गोरखपुर से चने का बेसन सिंगापुर गया है। उन्होंने सरकार अब प्रदेश के 75 जनपदों में मक्का की खेती तेजी के साथ कार्य कर रही है। बाजरे की खेती में राष्ट्रीय औसत में उप्र को तेजी के साथ काम करना होगा।

उन्होंने कृषि विवि को नैक मूल्यांकन में A++ हासिल करने पर जमकर सराहना की। कहा कि विश्वविद्यालय ने शोध, शिक्षा एवं प्रसार के अलावा विभिन्न क्षेत्रों में तेजी के साथ आगे बढ़ा है जो सभी के लिए गर्व की बात है। कृषि मंत्री ने कृषि विवि के शैक्षिक प्रक्षेत्र में धान की रोपाई कर उद्घाटन किया।

विशिष्ठ अतिथि कृषि राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख ने कहा कि सरकार ने बिजली कनेक्शन लेने पर किसानों को सब्सिडी देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आगे भी बिजली का कनेक्शन लेने पर सरकार किसानों के लिए सब्सिडी देने का काम करेगी। मंत्री औलख ने कहा कि फसल चक्र का अपने आप में अलग महत्व है।

उन्होंने कहा कि अगर प्रदेश के किसान फूलों की खेती करें तो वे अधिक से अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। कृषि उत्पादन आयुक्त डा. मनोज सिंह ने कहा कि किसान अगर समय से जमीन को समतल एवं लाइन सोईंग से बोआई करें तो वे अपने उत्पादन को अधिक बढ़ा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि देश का 20 प्रतिशत अनाज उत्तर प्रदेश पैदा करता है जहां पर 75 प्रतिशत जमीन पर खेती होती है और 85 प्रतिशत जमीन पर सिंचाई की सुविधा उपलब्ध है। किसानों की सुविधा के लिए प्रत्येक जिले में हाईटेक नर्सरी बनाने का कार्य हो रहा है।

इस मौके पर कुलपति डा. बिजेंद्र सिंह ने कहा कि विवि फूलों की खेती के साथ-साथ मशरूम, फल, फूल, सब्जी की नर्सरी तैयार कर रहा है। विवि किसानों को एक लाख पौधे मुफ्त में देगा।

उन्होंने नैक में A++ ग्रेड पाने पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही एवं उत्तर प्रदेश शासन के अन्य अधिकारियों के सहयोग को जमकर सराहा।

इस दौरान विभिन्न क्षेत्रों में उत्तम कार्य करने वाले अयोध्या के छह प्रगतिशील किसानों को सम्मानित भी किया गया। इस मौके पर अयोध्या के मंडलायुक्त, जिलाधिकारी, सीडीओ, कृषि निदेशक एवं कृषि विभाग के अन्य अधिकारी मौके पर मौजूद रहे। अपर मुख्य सचिव कृषि डा. देवेश चतुर्वेदी ने कहा कि किसान अपने खेतों में ड्रोन दीदी की मदद से नैनो यूरिया का छिड़काव करें।

इससे किसानों को आर्थिक और समय की बचत होगी। उन्होंने कहा कि कृषि एवं पर्यटन विभाग गांवों में एग्रोटूरिज्म पर कार्य कर रहा है। उन्होंने विवि को A++ हासिल करने पर बधाई दी और कहा कि यह विवि एक नई तरक्की की राह पर अग्रसर है। इससे विवि को राज्य सरकार, आईसीएआर एवं अन्य मदों से फंड की प्राप्ति होगी जिससे विवि और आगे की तरफ तरक्की करेगा।

Leave a Comment

× How can I help you?